समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

7/25/13

कोई कोई होता है योगी-हिन्दी कविता (koyee koyee hota hia yogi-hindi poem or kavita)




भूखे हो तो रोटी
खुद तुम्हें जुटानी होगी,
बीमार हो तो तुम्हें अपनी दवा
खुद जुटानी होगी,
अगर घर से निकले बाहर
अपनी जरूरत पूरी करने के वास्ते,
ख्वाबों का बाज़ार सजा मिलेगा पूरे रास्ते,
सौदागरों को पैसा दो या बेचो पसीना
कोई तुम्हारा मालिक नहीं है
सभी हैं खून के भोगी।
कहें दीपक बापू
कोई नारे लगा रहा है,
कोई कागज पर शब्द नचा रहा है,
ज़माने का भला करने के लिये
जुलूस रोज निकल रहे हैं,
जिन्होंने कभी झंडे उठाकर
शिखरों पर सजा दिये बुत
खाली हाथ रहे उनके
दिल अभी तक जल रहे हैं,
न लूटे पैसा,
न मांगे पसीना,
न कभी खून चूसे
दर्द दूर करे सभी का
ऐसा होता है सदियों में कोई योगी।
---------------------


-------------------


लेखक एवं कवि-दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप,
ग्वालियर मध्यप्रदेश
writer and poet-Deepak Raj kurkeja "Bharatdeep"
Gwalior Madhya Pradesh
कवि,लेखक संपादक-दीपक भारतदीप, ग्वालियर
http://rajlekh.blogspot.com 

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका

3 comments:

Archana said...

योगी होना आसान नहीं ....

Archana said...

योगी होना आसान नहीं ....

ABHINAV MISHRA said...

Yog mahatwapurna hai

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें