समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

2/7/17

ट्रम्प ने आतंकवाद और मीडिया के विरुद्ध एक साथ मोर्चा खोलकर साहस दिखाया है-हिन्दी संपादकीय लेख (Trump Breve Efferd his Step Against terrism And Media-Hindi Editorial)

                                           अमेरिका के नये राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने प्रचार माध्यम तथा अरेबिक आतंकवाद के विरुद्ध एक साथ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने  आरोप लगाया है कि कम से कम 72 अरेबिक धार्मिक आतंकवादी घटनाओं को मीडिया ने छिपाया।  हमें नहीं मालुम कि वह कौनसी घटनायें हैं पर फेसबुक पर अनेक बार यजीदी, कुर्दिश तथा ईसाई महिलाओं के साथ इराक तथा सीरिया के आतंकवादियों की भयानक बदतमीजी की घटनायें समाचार बनी पर अंतराष्ट्रीय प्रचार माध्यमों ने उन्हें नहीं बताया। हमें भी कई बार लगा कि यह शायद अरेबिक धर्म को बदनाम करने के लिये प्रचारित हुईं हैं पर ट्रम्प के बयान से लगता है कि यह सच है।
                   कुछ लोग यह सवाल उठा सकते हैं कि आखिर अल्जजीरा, सीएनएन और बीबीसी वाले ऐसे समाचार क्यों दिखायें? समूचा अरब जगत कोई इनके समाचार क्षेत्र में आता है क्या?
               हमारा जवाब है कि जब अरेबिक लोगों पर प्रतिबंध के बाद इराक के बीमार बच्चे का अमेरिका आना बाधित होने पर जब यह चैनल हाहाकार मचा रहे हैं तो फिर यह बात भी कही जा सकती है कि इराक का एक बच्चा जब समाचार क्षेत्र के दायर में आ सकता है तो हजारों यजीदी तथा कुर्द महिलाओं के साथ बदसलूकी तथा उनकी हत्या का समाचार क्यों नहीं आ सकता?
                         एक बात तय रही कि ट्रम्प ने साबित कर दिया है कि वह मीडिया की वह परवाह नहीं करते। जब से आये हैं तब से अमेरिका सहित पश्चिमी जगत के समूचे मीडिया में उनका नाम एक दबंग छवि का पर्याय बन गया है। प्रसंगवश भारत में भी हिन्दू धार्मिक संगठन प्रचार माध्यमों पर ऐसे ही आरोप लगाते हैं जिसमें कहीं कोई एक गैर हिन्दू पर प्रहार हुआ तो बिना जानकारी के प्रचार माध्यम हिन्दू संगठनों पर हमला करते देते हैं जबकि कहीं एक साथ हिन्दुओं पर सामूहिक हमला होता है तो प्रचार माध्यम खामोश रहते हैं-हमारे पास कोई प्रमाण नहीं है पर  अपनी फेसबुक की दीवार पर अनेक ऐसे संदेश देखे हैं जिस पर यकीन करें या नहीं समझ में नहीं आता।
----

1/31/17

ट्रम्प की वजह से अंग्रेजी में ले रहे हिन्दी जैसे बौद्धिक विलास का मजा-हिन्दी व्यंग्य चिंत्तन (Enjoy mentaly Exersize With Trump efferd-HindiSatireArticle)

                                      अंग्रेजी के सीएनएन बीबीसी देखना हिन्दी चैनलों की अपेक्षा अच्छा क्यों लगते है? जवाब भी हम देते हैं कि घर मोहल्ले की कलह से ऊबा आदमी दूसरे घर मोहल्ले में फसाद का आनंद लेता है। यही अंग्रेजी जानने वाले उन पाठकों का भी हो सकता है जो समाचारों और बहसों में रुचि लेते है। हमारे यहां समाचारों और बहसों की धारा में वंशवाद, परिवारवाद और भाई भतीजावाद गया है। राजनीति के शिखर परिवारों के लिये सुरक्षित है। पहले दादा देखा अब पोता देखो। पिता देख अब पुत्र देखो। नाम बदले हैं उपनाम वही है।  सो बोरियत तो होती है। वैसे सीएनएन और बीबीसी भी रुचिकर नहीं लग रहे थे पर अब ट्रम्प ने धूंआधार बैटिंग कर उसमें रुचि पैदा की है।
                                            कभी कभी बीच में देसी हिन्दी अंग्रेजी समाचार चैनल देखते हैं तो वही पुराने उपनाम सामने आते हैं-उनके कथनों के समाचार फिर उन पर बहस! यार, हम समाचार और उन पर बहस का रस लेने के इतने आदी हो गये हैं कि फिर भी कुछ दिन तो समाचार चैनल बहुत कम देखने लगे थे। अब ट्रम्प ने नये रस का स्वाद दिलाया है-यह रस अंगेजी में है पर हम समझ लेते है।
                                         पहली बार हमें पता लगा कि अमेरिका की ताकत वहां के मूललोग नहीं वरन् समय समय पर वहां आये शरणार्थी हैं।  बड़े बड़े दिग्गज जिन्होंने अमेरिका का नाम रोशन किया वह अमेरिका के मूल निवासी नहीं थे। यहां तक कि ट्रम्प की पत्नी भी वहां के मूल की नहीं है। यही कारण है कि अनेक लोगों ने ट्रम्प का मजाक उड़ाया है कि अगर शरणार्थियों का आना अमेरिका नहीं होता तो उनकी शादी कैसे होती? वैसे यह मजाक उस अतिवाद से प्रेरित है जिसके वशीभूत सामाजिक तथा मानवाधिकार संगठन प्रदर्शन कर रहे हैं। जिन सात देशों पर प्रतिबंध लगाया है वहां ईसाई भी भारी संख्या में है इसलिये केवल मुसलमानों पर प्रतिबंध की बात गलत है। मजे की बात यह कि जिस तरह भारत के पत्रकार हैं वैसे ही अमेरिका में भी हैं जो ट्रम्प के प्रतिबंध को मुसलमानों से जोड़ रहे है।
                                          जिस तरह असहिष्णुता के मुद्दे पर भारतीय प्रचार माध्यम वर्तमान सरकार के पीछे पड़े थे उसी तरह अमेरिका में भी हो रहा है। जबकि हमारा मानना है कि किसी महत्वपूर्ण विषय पर बेसिरपैर के निष्कर्ष निकालने की जो प्रचार माध्यमों की आदत है वह दोनों जगह दिखाई दे रही है।  ऐसा लगता है कि प्रचार माध्यमों के स्वामी भयवश ऐसे मुद्दों पर सरकारों को उलझाते हैं जिससे जनहित भले ही हो पर सरकारें दबाव में रहें ताकि उनके संगठनों के कालेपक्ष सामने आये। ट्रम्प तो खुल्लमखुल्ला प्रचार माध्यमों को झूठा कह दिया है ऐसे में प्रचार संगठनों के स्वामी-जो पर्दे पर नहीं दिखते-घबड़ाये हुए हैं इसलिये ही एक हल्के विषय पर ट्रम्प को घेर रहे हैं ताकि वह आगे जायें। गये तो प्रचार स्वामियों को भी निगल सकते हैं। अमेरिकी समाचार चैनल देखकर हमने यह महाज्ञान प्राप्त अनुभव किया है।  अब यह पता नहीं यह सिद्ध है कि नहीं। बहरहाल हम चाहते हैं कि ट्रम्प प्रतिदिन कोई नया विवादास्पद निर्णय करें ताकि हमारा बौद्धिक विलास चलता रहे। अब हिन्दी नहीं तो अंग्रेजी में ही सही, सब चलेगा।
--

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें