समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

11/20/07

ब्लागस्पाट के हिंदी ब्लोग में कब तक रहेगी समस्या

पिछले कई दिनों से ब्लागस्पाट.कॉम के हिंदी संस्करणों में जो परेशानी आई थी वह अभी तक दूर नहीं हुई है। वैसे मेरा अनंत शब्द योग मैं इसके बाड़े प्रकाशित किया है पर उसको अंग्रेजी (भारत)में श्रेणीबद्ध किया है। यह परेशानी कब तक रहने वाली है समझ में नहीं आ रहा है। क्या अब इन ब्लोगों के दुबारा हिंदी में श्रेणीबद्ध करने से काम चलेगा या नहीं। हालांकि मैं देख रहा हूँ कुछ ब्लोग अभी भी निर्बाध गति से छप रहे हैं और श्री परमजीत बाली ने मेरे सुझाव पर उसमें परिवर्तन किया तो उनकी पोस्ट प्रकाशित हो गयी। मेरा अनंत शब्द योग भी अंग्रेजी श्रेणी में काम कर रहा है पर समस्या यह है कि बाकी ब्लोग काम नहीं कर रहे तो उनका क्या करूं? क्या यह सिर्फ चन्द लोगों की समस्या है या सभी ब्लोगर इससे दो चार हो रहे हैं। हो सकता है कि जो ब्लोगर ज्यादा सीख गए हों और उन्होने अपने का पूरी तरह हिन्दीकरण कर लिया हो वही इसे समस्या में फंसे हों और जिन्होंने नहीं किया वह इससे अवगत नहीं हुए।

बहुत समय तक मेरे ब्लोग अंग्रेजी (भारत) श्रेणी में ही थे और मैं उसे पोस्ट कर रहा था, वह तो एक दिन नजर पड़ गयी और मैंने उसको हिंदी में कर लिया। चिट्ठा जगत से समय और तारीख के हिंदी में होने पर उनका अंग्रेजी करण किया तो भी hindi में नहीं ले रहा था। जब वहाँ अंग्रेजी किया तब पोस्ट पब्लिश हुई। अब इस संबंध में ब्लागस्पाट.कॉम को किसी ने बताया कि नहीं। मैं चूंकि अंग्रेजी नहीं जानता इसलिए मुझे संदेह है कि मैं उन्हें समझा पाउँगा, क्योंकि मुझे लग रहा है कि मैंने अपनी बात हिंदी वालों को ही नहीं समझा पा रहा तो उन्हें क्या समझा पाऊंगा। इसलिए मेरा अनुरोध है कि इस संबंध में सक्षम लोग कार्यवाही करें। वैसे मैं न कहूं पर जब हिंदी में काम चल रहा था तो फिर उसमें रुकावट आना ठीक नहीं लगता। अगर शुरू से ही अंग्रेजी में चलता और बीच में हिद्नी में चलने पर रुकावट आती तो कहते कि भाई नया काम है इसलिए चलने दो, पर यहाँ तो अच्छा खासा हिंदी में चलते हुए रुकावट आने लगी है। चलने को अंग्रेजी से काम चल जायेगा पर एक हिंदी प्रेमी होने के नाते यह जानने में मेरी दिलचस्पी है कि आखिर इसमें रुकावट क्यूं आयी और इसका हल होगा या नहीं ।

6 comments:

दीपक भारतदीप said...

इस पोस्ट को प्रयोग के तौर पर समझें क्योंकि बहुत मुश्किल से आयी है. कम से कम पांच-छः बार प्रयास पर यह आई है-यह तो मैंने देख लिया वरना तो लगा कि वह नहीं छपी है. मतलब समस्या तो है और इसका हल क्या है समझ से परे है.
दीपक भारतदीप

रवीन्द्र प्रभात said...

जहाँ समस्याएं हैं वहीं समाधान भी , हमें समस्या का नही समाधान का हिस्सा बनना चाहिए .

विकास कुमार said...

I'm facing problem with timestamp. it says that time is not correct. (I guess 'apraahan-poorvaahan' is creating problem). I notified blogger once.

That is whay I posted some of my last posts using email. (There is a feature by which you can send emails to blgger which will automatically get published)

परमजीत बाली said...

दीपक जी ,आप सही कह रहे हैं..इस समस्या का हल होना ही चाहिए।..हम जैसे हिन्दी भाषीयों को ही ज्यादा परेशानी हो रही है।

Sanjeeva Tiwari said...

हां भाई मेरे आरंभ में भी वही रोग लगा है, आवारा बंजारा वाले संजीत भाई का सहयोग लिया तब मेरे दो पोस्‍ट आ पाये नहीं तो सात दिन से प्रयास कर रहा था, वो भी टाईम जोन गलत है, अब कुछ छेड छाड करने से भी डर लगता है ।

'आरंभ' छत्‍तीसगढ से

आलोक said...

अपनी समस्या का वर्णन यहाँ लिखें, हिंदी में ही। और अपने स्थल पर अपनी समस्या के वर्णन की कड़ी प्रदान करें। हम सभी भी अपनी समस्याएँ वहाँ प्रकाशित करेंगे।

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें