समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

4/16/07

प्रयोग के लिए एक कविता

यह कविता प्रयोग के तौर पर हिंदी फॉण्ट में टाईप कर पैंट में पिक्चर में सेव कर पेस्ट की गयी है अगर यह पढने में आती है तो इसका मतलब यह है जिनके पास हिन्दी फॉण्ट है और अन्य उपयोग नही है ती वह ऐसे भी काम कर सकते हैं अगर नहीं पढने में आती तो इसका मतलब यह प्रयोग बेकार है।

2 comments:

मोहिन्दर कुमार said...

काम चलाऊ कह सकते है आप, ज्यादा कारगर नही.

Shrish said...

"अगर यह पढने में आती है तो इसका मतलब यह है जिनके पास हिन्दी फॉण्ट है और अन्य उपयोग नही है ती वह ऐसे भी काम कर सकते हैं"

आपका मतलब है कि जिन लोगों के पास रेमिंगटन हिन्दी फॉन्ट हैं वो बिना किसी टूल के भी ये टाइप कर सकें और पढ़ने वाले भी इस इमेज को बिना उस फॉन्ट के पढ़ सकें।

मैं आपकी बात समझ रहा हूँ लेकिन भईया ऐसा उल्टा काम करने की जरुरत क्या है। आपका मतलब है कि इस तरीके से बिना Indic IME के भी आप रेमिंगटन फॉन्ट की मदद से हिन्दी टाइप कर पाएंगे। लेकिन भईया पोस्ट पब्लिश करने तो ऑनलाइन होना ही पढ़ेगा न। इस सारे झंझट से अच्छा है कि यूनिनागरी के रेमिंगटन टूल का उपयोग करके पोस्ट लिख ली जाए, वो सबको दिखेगी भी झकास।

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें