समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

8/1/07

गोवर्धन परिक्रमा: श्रद्धा और विश्वास का प्रतीक


कल मैं गोवेर्धन परिक्रमा से लौटा हूँ। परिक्रमा के दौरान लोगों में जो मैंने उत्साह और श्रद्धा का भाव देखा उससे बहुत प्रभावित हुआ। इसमें कोई संदेह की बात नहीं है कि सामान्य दिनों में हम अपने आसपास धर्म को लेकर तमाम तरह के ढकोसले देखते हैं उससे ऐसा लगता है कि जैसे कि लोग दिखाने के लिए धर्म-कर्म करते हैं पर जब मैं किसी धार्मिक स्थान पर जाता हूँ तो लगता है कि सामान्य लोग भारी तकलीफ उठाकर अपने विश्वास और श्रद्धा के साथ वहाँ आते हैं। सामान्य लोग मैंने इसलिये भी कहा क्योंकि देश के भौतिक और आर्थिक विकास के साथ धनाढ्य और खास वर्ग के लोगों के संख्या में वृद्धि हुई है जो इन स्थानों पर जाकर भी सुख-सुविधाएँ अर्जित करते हुए अपने धर्म और विश्वास का निर्वाह करते हैं। मैंने सभी धार्मिक स्थानों पर जाकर देखा है कि लोग वहाँ इतने निर्लिप्त हो जाते है कि सामान्य स्थिति में ऐसे भक्ति-भाव उनके मन में नहीं आ पाता इसलिये वह घर-गृहस्थी से दूर होकर इन स्थानों पर शांति और निर्लिप्त भाव से अपना समय व्यतीत कर पाते हैं-जो उनके लिए अपने घरों पर संभव नहीं हो पाता।
कहने को तो हमारे महापुरुष कहते हैं कि 'मन चंगा तो कठौती में गंगा' और इसमें सच्चाई भी है पर इस सत्य के साथ अपने घर पर ही शांति और निर्लिप्त भाव के साथ भगवान् की भक्ति करना सामान्य आदमी के लिए अत्यंत कठिन होता है और शायद इसीलिये ही भारत के जनसाधारण के मानस पर कहीं पवित्र स्थान पर जाकर तीर्थ करने की भावना सदैव प्रबलता के साथ रहती है।
ऐसे स्थानों पर कुछ लोग पर्यटन की दृष्टि से भी जाते है और इससे उनके 'एक पंथ दो काज' वाली कहावत भी सिद्ध हो जाती है -एक तो वह घूमने-फिरने का आनन्द लेते ही हैं और भक्तों के बीच में घुमते हुए कहीं न कहीं अपने हृदय में भी भक्तिभाव की अनुभूति करते हैं।गोवर्धन परिक्रमा पर जाने की मेरी कई बरसों से मेरी इच्छा थी तो सोचा इस बार वहाँ हो कर आते हैं ,मजे की बात यह कि वहीं मुझे पता लगा कि गुरू पूर्णिमा पर वहाँ सबसे अधिक भीड़ रहती है और मेरे लिए यह संयोग ही बन पडा। वैसे तो मैं कई बार वृन्दावन और मथुरा गया हूँ पर इस बार ऐसे समय गया जिसके बारे में सोचा भी नहीं था। अगर मैंने इस बार कष्ट उठाएँ तो आनन्द भी बहुत मिला।
गोवर्धन परिक्रमा के दौरान हमने सब लोगों को नंगे पाँव चलते हुए देखा। सब लोग निर्लिप्त और शांत भाव से अपने कदम से कदम बढाए जा रहे थे। किसी में कहीं कोई राग-द्वेष, लालच, लोभ और परनिन्दा का भाव नहीं था। कोई धीरे तो कोई तेज चलते हुए तो कोई दौड़ कर परिक्रमा पथ पर चला जा रहा था। मुझे यह बात साफ लग रही थी कि लोग वहाँ आकर जिस निर्लिप्त और शांति भाव से अपने अन्दर भक्ति का अनुभव कर रहे थे वही उन्हें वहां आने के लिए प्रेरित करती है। वहाँ श्रद्धालुओं और भक्तो के लिए स्थानीय और बाहरी संस्थाओं द्वारा पानी, भोजन और विश्राम के लिए जो निशुल्क व्यवस्थाएं की गयी हैं उनके लिए तो कहने के लिए शब्द भी कम पड़ जाएँ । केवल यह बात ही नहीं वहाँ तीर्थ यात्रियों के मन को आनंद पहुंचाने के लिए फिल्मी संगीत पर आधारित भजनों की अलावा स्थानीय युवाओं द्वारा नृत्य का कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया जा रहा था पर वहाँ केवल वही लोग इसका आनन्द ले पा रहे थे जो थोडा विश्राम करना चाहते थे पर उनकी संख्या बहुत कम थी क्योंकि अपनी श्रद्धा और विश्वास के वशीभूत लोग केवल अपने परिक्रमा लगाने और उसे पूरा करने में ध्यान लगाए रहते हैं। रास्ते में प्रसाद, पानी, शरबत, चाय और विश्राम के लिए सेवाधारी लोग तीर्थ यात्रियों से आग्रह करते थे, उनमें से कुछ लोग सुनते तो कुछ आगे बढ़ जाते।
सेवाधारियों के पंडालों पर लगे होर्डिंग से यह पता चल रहा था कि किस क्षेत्र से संबद्ध है। हालांकि उसमें कई बाहरी क्षेत्रो से थे पर स्वाभाविक रुप से सर्वाधिक संख्या गोवर्धन पर्वत के निकट स्थित राजस्थान के सीमावर्ती शहरों और गांवों से जुडे लोगों द्वारा पंडालों की संख्या अधिक थी। उनका निष्काम सेवाभाव दृश्व्य और हृदयंगम करने वाला था।
लाखों की संख्या में श्रद्धालु लोग परिक्रमा लगाकर वहीं से अपने घरो को लॉट रहे थे तो उतने ही आ रहे थे। समस्या तो बाद में लौटने की हो गयी। वहाँ से वृन्दावन जब आये तो एक दिन ठहरने के बाद जब बस स्टेंड पहुंचे तो पता लगा कि हाल बुरे थे। टेंपो वालों ने मथुरा तक का किराया दूना कर दिया था-हालांकि गोवर्धन तक भी हमने आने-जाने में दूना किराया ही दिया था पर यहाँ तो समस्या यह नहीं थी बल्कि भारी भीड़ की वजह से टेंपो ही नहीं मिल रहे थे और जो सरकारी बसें थी तो उसमें भी ठूंस-ठूंस कर लोग भरे जा रहे थे-भीषण गर्मी और उमस से बस में बुरा हाल था और चालक और कंडक्टर अपने जुगाड़ में लगे थे- भरने के बावजूद बस को चला नहीं रहे थे। गोवर्धन पर्वत पर जो श्रद्धालू वहां के सेवाधारियों से अपने श्रद्धा और विश्वास के वजह से सम्मानित हुए थे वही टेंपो और बस चालकों के लिए केवल दुधारू पशुओं से अधिक नहीं थे- आज इन्हें लूट लो कल मौका नहीं मिलेगा ऐसा भाव उनके मन में था। निजी चालकों की बात तो समझ में आ सकती है पर सरकारी बसों का भी यही हाल था। इसके बाद जब हम मथुरा रेलवे स्टेशन पर आये तो वहाँ जो भीड़ देखी तो बस होश ही फाख्ता हो गये। उस समय हम सोच रहे थे कोई चैनल वाला मिल जाये तो उस सारे हाल दिखाए और बताएँ पर मैं जानता था कि हमारे देश की मीडिया के लोगों के लिए गोवर्धन की परिक्रमा प्राथमिकता की सूची में नहीं है, उसे तो मनोरंजक कार्यक्रमों से ही फुर्सत नहीं है।
गोवर्धन की परिक्रमा के दौरान मैंने देखा कि देश के कौने-कौने से लोग वहाँ आये थे, और इसे छोटा(मिनी) महाकुम्भ भी कहा जाता है। भारत को विदेशी लोग अंधविश्वासों का देश कहते है क्योंकि उनके उनको यह पता ही नहीं कि विश्वास और आस्था का भाव होता क्या है? इतनी दूर से लाखों लोग-जिनमें तो कई पैदल आते हैं-ढ़ेर सारी तकलीफों को झेलते हुए और दूना किराया देकर वहाँ आते है केवल अपने श्रद्धा और विश्वास के वशीभूत होकर। उन्हें लूटा और ठगा जाता है , परेशान किया जाता है, कई जगह दुर्व्यवहार का भी सामना करना पड़ता है पर वह अपने विश्वास को उनसे नहीं जोड़ते । कोई श्रद्धालु यह नहीं कहता कि 'जिस रास्ते पर ईश्वर ने इतनी सारी तकलीफें बिछा रखीं हैं वहां नहीं जाऊंगा' बल्कि यह उसका विश्वास होता है जो कहता है 'ईश्वर हमारी इस तरह परीक्षा लेता है'। मैंने वहाँ कई स्थान देखे जिनके बारे में अगले अंकों में लिखूंगा क्योंकि इसमें कोई संदेह नहीं है कि भगवान श्री कृष्ण के निष्काम भक्ति के संदेश पर टिका है हमारा आध्यात्म और इसके लिए हमारे देश को आध्यात्म गुरू भी कहा जाता है। श्री मद्भागवत गीता में जो ज्ञान और विज्ञान का अनूठा संदेश है उसे श्रद्धा से पढने वाले ही समझ सकते हैं-ऎसी मेरी मान्यता है ।

3 comments:

bhuvnesh sharma said...

दीपक भाई आपकी पोस्ट पढ़ी अच्छा लगा
आपके प्रोफ़ाइल को देखकर चौंका क्योंकि आप ग्वालियर से हैं मुझसे मात्र ३५ किमी दूर. मैं मुरैना में निवासरत हूं.
ग्वालियर आना लगा ही रहता है.
आप कहां मिलते हैं?
मुझे मेल करें- bhuvnesh.ad@gmail.com
मेरा नंबर- 07532230819

परमजीत बाली said...

दीपक जी,आप का यात्रा वृंतांत पढा।बहुत अच्छा लगा।हमारे देश में ऐसी लूट पाट हर ऐसे स्थान पर अक्सर देखने को मिल जाती है।
आप ने अच्छा लिखा है लेकिन एक बात अखरी,कि आप यदि वहाँ की तस्वीरे भी उपलब्ध करा पाते तो हमें भी दर्शन लाभ मिल जाता।आप को यात्रा की बहुत बहुत बधाई।

नितिन बागला said...

अच्छा लिखा।...वैसे तो गिरिराज जी पर हर पूर्णिमा को भारी भीड रहती है, पर गुरू पूर्णिमा पर वाकई सबसे ज्यादा भीड होती है।

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें