समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

8/4/07

दिन और रात के पल

शांत रात
कोलाहल से परे चित
हृदय में सहजता का भाव
ऐसा लगता है गुजरा हुआ दिन
एक सपना है जो बीत गया
निद्रा धीरे धीरे चली आ रही है
वह हर पल डरावना लगता है
जो सूर्य की तपिश में बीत गया

किसी से प्रेम
किसी से व्यापार
किसी से वार्ता
किसी से विवाद
दिन की उजाले में भी
हृदय के अँधेरे का अहसास
रात्रि के अँधेरे में भी
अपने को ही शांति से
देखता हुआ मन
पूछता है कौन है जिसने
दिन के पलों को बेकार किया

दिनभर मधुर स्वरों को
सुनते हुए थके
और कुछ कटु शब्दों से फटे कान
अब अपने मन की
आवाज सुन सकते हैं
अब सुनना चाहते हैं कि
कौन है जिसने
दिन के पलों को बेकार किया

यह अनुत्तरित प्रश्न भी
रात में परेशान नहीं करता
दिन की उजाले में बैचेनी से
गुजरे पल रात में
कोई तूफान नहीं उठा रहे
क्योंकि रास्ता रोक के खडा अँधेरा
अब उन्हें बढने नहीं देगा
रात को मन में भी अँधेरा आने दो
दिन के प्रश्नों के उत्तर भी
दिन में खोजना
वरना खडा होगा सुबह
एक और प्रश्न
रात की नींद के पलों को
किसने बेकार किया
-----------------------

1 comment:

परमजीत बाली said...

दीपक जी,बहुत बढिया रचना है।

दिनभर मधुर स्वरों को
सुनते हुए थके
और कुछ कटु शब्दों से फटे कान
अब अपने मन की
आवाज सुन सकते हैं
अब सुनना चाहते हैं कि
कौन है जिसने
दिन के पलों को बेकार किया

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें