समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

8/11/10

रोंऐ या मुस्करायें-हिन्दी कविता (royen ya muskraen-hindi peom)

सामने तारीफ पर तारीफ वह करते रहे
जो हमने पीठ दिखाई
वह हमारे रूप को शैताना जैसा बताने लगे,
कौन करता है किसकी परवाह
जो दूसरे के लफ्जों पर
रोऐं या मुस्करायें
सभी इंसान
जुबां से उगल रहे बेकार बातें
जैसे जिंदगी का बोझ ढो रहे हैं,
अलबत्ता उनके जज़्बात सो रहे हैं,
आंखें बंद लगती हैं,
भले ही लोग दिखते हैं जगे।
-------------

कवि,लेखक,संपादक-दीपक भारतदीप,Gwalior
http://dpkraj.blogspot.com

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका

1 comment:

Deepti Sharma said...

sir m deepti sharma poem likhti hu
plz agar aap ek bar dekh le to mujhe aapki patrika join karni h plz help me
mera link h
www.deepti09sharma.blogspot.com
aap dekh le or mujhe meri galtiya bataye m bahut aage badna chahti hu

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें