समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

8/25/07

mamta t.v. एक रूचिकर ब्लोग-समीक्षा

यह संयोग ही है कि आज ही ममता जीं ने अपनी पोस्ट में मेरे नाम का उल्लेख किया है, जबकि मैंने कल ही उनके ब्लोग पर अपना लेख लिखा था और उसे आज के ब्लोग पर रखने वाला था उसे छोड़ कर यह दूसरा लिख रहा हूँ क्योंकि उनकी आज की रचना के बिना यह समीक्षा अधूरी लगती।

कुछ ब्लोग ऐसे हैं जिन्हें मैं नियमित रुप से पढता हूँ क्योंकि वह रूचिकर और ज्ञान वर्द्धक सामग्री से भरपूर होते हैं उनमें mamta tv भी ऐक है। ममता जीं जिस मनोयोग से लिखती हैं उनके शब्द उसको बयान करते हैं। उनके गोवा और आगरा के यात्रा वृतांत आज भी मेरे हृदय पटल पर अंकित हैं, क्योंकि उनमें न केवल रूचिकर विवरण था बल्कि अच्छी खासी जानकारी भी थी। अपने भावों को पूरी तरह शब्दों में प्रकट करने की जो ममता जी कोशिश करती हैं, वह बहुत प्रभाव पूर्ण लगता है। फिर उनमें फोटो की प्रस्तुति सोने में सुहागा जैसी बात लगती है।

वह केवल न अच्छा लिखती हैं बल्कि दूसरों का लिखा पढ़ती भी है, और आपने कमेन्ट से प्रेरित भी करती हैं। आज ही उनके साँपों पर लिखे गये लेख को पढ़कर मुझे बहुत अच्छा लगा। प्राकृतिक प्रेमियों के लिए यह लेख संग्रहणीय है, और साथ उनकी लेखन के प्रति सामाजिक प्रतिबद्धता को भी दर्शाता है-मेरी दृष्टि से जो ऐक लेखक या लेखिका की सबसे बड़ी पहचान भी होती है। ऐक बात और जो मैं कहना चाहूँगा कि बिना अच्छा पढे आप लिख नहीं सकते। कई लोग ऐसे हैं जो बस लिखना चाहते हैं पर पढ़ना बिल्कुल नहीं और इसलिये उनकी रचनाएँ प्रभावपूर्ण नहीं बन पाती ।

ममता जी की रचनाएं देखकर ऐक बात साफ समझ में आती है उनका अध्ययन भी अनेक विषयों पर किया गया है-और इसी कारण अपनी रचनाओं को इतने प्रभावपूर्ण ढंग से प्रस्तुत कर सकीं हैं। अभी मोबाइल की बेट्री के संबंध में उनके जो आलेख थे सामयिक विषयों पर उनकी दिलचस्पी को दर्शाते हैं। सहज और सरल भाषा, रूचिकर विषय, प्रभावपूर्ण शब्द और महत्वपूर्ण जानकारी से सुसज्जित उनके ब्लोग में आगे भी ऐसे प्रभावपूर्ण, रूचिकर और ज्ञानवर्द्धक रचनाएं पढने को मिलेंगी ऎसी आशा है। इसके लिए मेरी शुभकामनाएं।

उनके आलेख के साथ link यहाँ दिया है
एक और डरावनी पोस्ट (सांप )

4 comments:

mamta said...
This comment has been removed by the author.
mamta said...

दीपकजी आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। आपकी इस समीक्षा से हमारा हौसला बढ़ा है । और हम तहेदिल से आपके शुक्रगुजार ह

Shastri JC Philip said...

प्रिय दीपक,

इस तरह से अन्य लेखों एवं लेखकों को प्रोत्साहित करना एक आदर्श कार्य है. साधुवाद !

-- शास्त्री जे सी फिलिप

हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
http://www.Sarathi.info

परमजीत बाली said...

दीपक जी आप बिल्कुल सही कह रहे हैं ममता जी अच्छाअ लिखती हैं।मै भी उन्हें पढता हूँ}

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें