समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

11/5/10

छोटी खुशियों से बचाते हैं अपना घौंसला-हिन्दी कविता (chhoti khushiyan aur ghonsla-hindi kavita)

दिवाली की रात
पटाखों की गूंज रही है
आवाज चारों तरफ,
आकाश के अंधेरे को भी
धुंआ अधिक काला किये जा रहा है,
लगता है
खुशी साक्षात उतरकर जमीन पर आयी है।
सोचता हूं
कौन है वह लोग
जो देश की ग़रीबी पर
झूठे आंसु बहाते हैं,
उनकी मदद के नाम पर करते दलाली
ज़माने के आगे चंदे के लिये हाथ बढ़ाते हैं,
कौन है वह चित्रकार
जो देश की भुखमरी पर
बनाते हैं डराने वाली तस्वीर,
दुनियां को दिखाकर इनाम पाते
बदल देते अपनी तकद़ीर,
कौन है वह शायर जो
जो बेबसों पर हमदर्दी दिखाते हुए
लिख जाते हैं गज़ल,
लफ्जों के प्यासे अमीरों को
खुश करने के लिये दर्द सजाते
बात आम इंसान की
महफिलों के लिये ढूंढते महल,
आधे पेट भरे,
फटे कपड़े पहने,
जिनके हाथ में हैं पसीने के गहने,
गरीब और मज़दूर
अपने हाथों से ही छोटी छोटी खुशियां
यूं ही जुटा लेते हैं,
चाहे उनकी मदद रास्ते में
जज़्बात और हमदर्दी के दलाल उठा लेते हैं,
गरीबों और मज़दूरों की लाचारी से भी
बड़ी है उनके बाजूओं की ताकत
और दिल का हौंसला,
अभावों के हमले में भी
छोटी खुशियों से बचाते हैं अपना घौंसला,
हमदर्दी के सौदागरों ने यह
बात कभी नहीं समझाई,
किसी तरह की अपनी कमाई।
---------------

लेखक संपादक-दीपक ‘भारतदीप’,Gwalior
http://dpkraj.blogspot.com
यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका

2 comments:

आशीष मिश्रा said...

बहोत सुंदर रचना

आपको भी सपरिवार दिपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ

संगीता पुरी said...

दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
जीवन में लाए खुशियां अपार।
लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें