समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

6/6/07

कभी-कभी भटकता है मन मेरा

कभी मन उदास हो जाता है
लगता है कहीं बैठकर उसे बहलाऊँ
प्यार से मैं सहलाऊँ
शरीर थकान से भरा लगता है
सोचता हूँ उसे आराम दिलाऊँ
आह भरता हूँ कि
कोइ मुझे सहलाए
कोइ अपने शब्दों से
मुझे तसल्ली दिलाये
कोइ पूछे दर्द मेरा
कोई मेरे खालीपन में
बहार बन कर छाये
आकाश की तरफ
आंख उठाकरदेखता हूँ एकटक
फिर सोचता हूँ
कोई मेरे लिए
अपने मन के दरवाजे
क्यों खोलेगा
मैंने किसे सहलाया है
मैंने किसे बहलाया है
अगर किसी के लिए
कुछ किया भी होगा
तो अपने स्वार्थों की
पूर्ती के लिए
मैं उठ कर खड़ा होता हूँ
चल पडता हूँ उस दलदल में
जहाँ से निकला आया था
सोचता हूँ जाऊं तो कहॉ जाऊं
-------------------
वहीं चलकर जाता हूँ
जहां मन ले जाता है
कोई उम्मीद नहीं है
कोई अरमान नहीं है
फिर भी चला जाता हूँ
मन को वश में करने की सारी
कोशिशें होती हैं बेकार
जितना करता हूँ
उतना उसका गुलाम हो जाता हूँ
इधर-उधर देखता हूँ तो
देखता हूँ सब फंसे हैं
मन के जंजाल में
उनको देखकर लगता है कि
फिर भी ठीक
कम से कम
मैं अपने मन से लड़ तो पाता हूँ
------------------

1 comment:

अनूप शुक्ला said...

मन् की बातें मान लिया करें कभी-कभी!

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें