समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

10/26/07

अपनी पहचान

अपनी पहचान बनाने के लिए
दिन रात किये जा रहे हम
पर कभी नही बन पाती
हम ओढे जाते गम
हमें लोग पहचाने
हमारा लोहा सब माने
हमारे नाम का डंका सब लगें बजाने
ऐसी ख्वाहिश में दौडे जा रहे हम
इतनी दूरी तय कर जाते
लगता है रास्ता है लंबा जिन्दगी है कम
दूसरे से अपने बारे में सवाल कर
मांगे जवाब
अपनी नजर से कभी अपने को नहीं देखते
दूसरे की आंखों में ढूंढते अपनी तस्वीर
हमारे मन में नहीं अपनी कोई पहचान
पहले अपने आप को ढूंढ ले
अपने से सवाल कर लें
अपनी तस्वीर देख लें
फिर ढूंढें बाहर निकलकर अपनी पहचान
----------------------------

1 comment:

परमजीत बाली said...

दीपक जी,आत्ममंथन करती रचना बहुत बढिया बन पडी है।बधाई।

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें