समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

10/30/07

प्यार और यकीन

प्यार में कभी-कभी धोखे भी हो जाते हैं
हर आदमी जिंदा है अपने यकीन के साथ
मिलन के बाद अपना यकीन
एक दूसरे पर थोपते नज़र आते हैं
जो जीता वही विजेता कहलाता है
जो हारा गुलाम हो जाता है
इसलिए होती है रिश्तों में जंग
हो जाता है हारने वाला तंग
पहले प्यार करने वाले
एक दूसरे के यकीन का कत्ल
करते नजर आते हैं
मोहब्बत तो होती है पल भर
रिश्ते रहते हैं जिन्दगी भर
इसलिए हम ख्यालों के साथ ही
रिश्ते जोड़े जाते हैं
वही दूर तक चल पाते हैं
प्रश्न यह नहीं कि यकीन कैसा है
जो जीते हैं अपने यकीन के साथ
वही ले पाते हैं खुली हवा में सांस
जो ओढ़ते हैं मजबूरी में
प्यार और मोहब्बत के नाम
पराये यकीन का साथ
वह जिंदगी में गुलाम हो जाते हैं
प्यार और मोहब्बत के ख्वाब तो
पल में हवा होते हैं
पर यकीन के बिना
साथ नहीं निभाए जाते हैं

2 comments:

राजीव कुमार - 5'8'' - अविवाहित said...

यकीन के बिना - साथ नहीं निभाए जाते हैं - अब प्यार में क्या ज़ायज और क्या नाज़ायज। लेकिन यकीन सबसे पहले। पहली सीढ़ी, पहली उम्मीद और साथ ही पहला भरोसा।

आशीष कुमार 'अंशु' said...

बहुत खूब..

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें